Debit और Credit Card में क्या अंतर है? What is difference between Debit card and credit card?

Difference between credit card and debit card


आज की इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको बताने वाले हैं डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड में क्या अंतर है। क्योंकि बैंकिंग की शब्दावली को समझने के लिए प्रत्येक आदमी के बस की बात नहीं है, और ऐसे बहुत सारे टर्म होते हैं जिनका रेगुलर लाइफ में हम उपयोग तो करते हैं परंतु उनका अच्छी तरह से अर्थ नहीं मालूम होता है जैसे सेविंग अकाउंट करंट अकाउंट इसी तरह का होता है डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड दरअसल अधिकतर लोग इन दोनों को एक जैसा ही डाक्यूमेंट्स समझने की गलती हमेशा करते रहते हैं।


क्योंकि इन दोनों का रूप रंग और कार्य करने के तरीकों में कई सारी समानता दिखाई देती हैं परंतु इन दोनों के बीच में जमीन आसमान का फर्क है और इन दोनों के बीच में अंतर समझने के बाद आप अपनी वित्तीय दुनिया में काफी ज्यादा सुधार कर सकते हैं और आपके पैसे का प्रबंधन भी भी बेहतरीन होगा और आप कुछ बचत भी कर सकते हैं तो दोस्त इन दोनों में डिफरेंस जाने से पहले इन दोनों की कौन-कौन सी समानता है इसके बारे में जाने का प्रयास करते हैं।


Credit और Debit Card में कौन कौन सी समानताएं हैं?


दोस्तों दोनों कार्ड देखने में लगभग एक जैसी दिखाई देती है उनका आकार और रंग रूप बिल्कुल प्लास्टिक कार्ड की जैसे ही होते हैं जिस पर कई सारे नंबर दर्ज हुए होते हैं इन दोनों कार्ड्स को सभी जगहों पर भुगतान करने के लिए स्वीकार किया जाता है और इन दोनों कार्ड को उपयोग करने का तरीका लगभग एक जैसा ही है। दोनों की सर्विस आपको किसी ना किसी बैंक के माध्यम से अवश्य मिल जाती है और इन कार्ड्स को बनाने वाली कंपनी दोनों तरह के कार्ड का निर्माण करती है इसीलिए इन पर दर्ज सिंबल्स भी कमोबेश एक जैसी होती है परंतु सबसे बड़ी खासियत यह है कि यह दोनों हमारे वित्तीय लेनदेन को आसान बनाते हैं। दोस्तों समानता जानने के बाद अब हम इन दोनों कार्ड्स को जानने का प्रयास करते हैं ताकि हम बड़ी आसानी से इन दोनों के अंतर को समझ सके।


Debit Card क्या होता है? (What is Debit Card)


अगर हम इसकी फैसेलिटीज के बारे में चर्चा करें तो डेबिट कार्ड बिल्कुल क्रेडिट कार्ड की तरह होता है परंतु यह अपने पैसों स्रोत के कारण अलग प्रकार के होते हैं डेबिट कार्ड के माध्यम से आप अपनी सेविंग या करंट अकाउंट से पैसे निकाल सकते हैं इससे यह होता है कि आपके अकाउंट में जितने भी पैसे हैं वह सभी डेबिट हो जाते हैं जितने का ट्रांजैक्शन आपने कार्ड के जरिए से किया था इस व्यवस्था के माध्यम से जिसे पैसे भुगतान करते हैं उसके अकाउंट से क्वेरी जनरेट होती है और आपके बहन के पास पहुंच जाती है ऐसे में बैंक में राशि जितनी आपने डेबिट कार्ड के माध्यम से भुगतान किया आपके अकाउंट से डिडक्ट कर मर्चेंट के अकाउंट में क्रेडिट कर दी जाती है अगर कई बार ऐसा हुआ कि आपके अकाउंट में जितने कैसे हैं उतनी आप मर्चेंट अकाउंट में ट्रांसफर कर रही है तो बैंक द्वारा आपकी क्वेरी को मनाही कर दिया जाता है और मर्चेंट अकाउंट वाले के पास मैसेज भेज दिया जाता है कि आपकी अकाउंट में पर्याप्त राशि नहीं है इसीलिए आप का लेनदेन पूरा नहीं हो सकता।


Credit Card क्या होते हैं (What is Credit Card)


दोस्तों क्रेडिट कार्ड को इस विचार के आधार पर बनाया गया है कि अगर आप किसी व्यक्ति को छोटी मोटी रकम उधार लेनी हो तो बैंक के तरह-तरह के कागजी कार्रवाई से दूर रहकर आप को बैंक के चक्कर न काटने पड़े और अपनी कस्टमर को यह सुविधा प्रदान करने के लिए क्रेडिट कार्ड को बनाया गया है जहां डेबिट कार्ड के माध्यम से आप को बैंक से कुछ समय के लिए राशि उधार देता है जितनी राशि आप ने अपने क्रेडिट कार्ड के माध्यम से भुगतान की है क्रेडिट कार्ड से भुगतान की जाने वाली राशि की सीमा आपके आर्थिक आधार के अकॉर्डिंग तय की जाती है और यह 5000 से शुरू होकर कुछ भी हो सकती है और इस राशि पर तय की गई ब्याज भी आपको देनी पड़ती है।


Credit और Debit कार्ड में क्या अंतर होता है?


• दोस्तों डेबिट कार्ड के माध्यम से आप केवल अपने अकाउंट से पैसे निकाल सकते हैं परंतु क्रेडिट कार्ड के माध्यम से आप बैंक से उधार पैसे भी ले सकते हैं।

• और डेबिट कार्ड से निकाली गई राशि के बदले में आपको ब्याज नहीं देनी होती है और क्रेडिट कार्ड से निकाली गई राशि पर आपको ब्याज देना होता है।


• डेबिट कार्ड ऑनलाइन ट्रांजैक्शन की सीमा के अकाउंट में मौजूद राशि होती है जबकि क्रेडिट कार्ड की सीमा आपके सेवा प्रदाता बैंक द्वारा निर्धारित की जाती है क्रेडिट कार्ड पूरी दुनिया में एक समान रूप से उपयोग किए जाते हैं इसलिए यात्रा के पश्चात यह सबसे अधिक यूज़ होते जबकि डेबिट कार्ड केवल आपके देश के लिए ही असेप्टेट होते हैं।


• डेबिट कार्ड पर बैंक द्वारा लगने वाला सर्विस चार्ज सामान्य रूप से क्रेडिट कार्ड से कहीं ज्यादा कम होता है।


क्रेडिट और डेबिट कार्ड के इस्तेमाल करते समय कौन-कौन सी सावधानी बरतनी चाहिए


दोस्तों आज भी समय में ऑनलाइन फ्रॉड और कार्ड क्लोनिंग की घटनाएं होना तो काम बात हो गई जिसके कारण से क्रेडिट और डेबिट कार्ड का इस्तेमाल करने वाले लोगों के मन में हमेशा डर बना रहता है अगर आप अपने कार्ड का उपयोग के दौरान नीचे दी गई सावधानियां बरतें तो आपको इस तरह की परेशानियों से बचा जा सकता है।


दोस्तों सबसे पहले आपको अपने कार्ड पर जारी नंबर की सीरीज किसी को नहीं बतानी है। और हमेशा प्रयास करना है कि इस्तेमाल करने के पश्चात आप को संभाल कर रखना है। और एक बात हमेशा याद रखनी है कि आपको भूल कर भी अपने कार्ड का पासवर्ड किसी को नहीं बताना है और यह पूरी तरह से कॉन्फिडेंशियल होता है और कोई भी व्यक्ति व्यंग अपने कस्टमर से किसी भी तरह का पासवर्ड नहीं पूछता है।


आपको ऐसी किसी भी वेबसाइट का इस्तेमाल ना करना है जो https से स्टार्ट ना होकर एचटीटीपी से शुरू होती है। ऑनलाइन अपने कार्ड को किसी भी वेबसाइट पर कभी भी स्टोर करके ना रखें क्योंकि अगर आपका लॉगिन है करके हाथ लग गया तो आपके कार्ड के क्रेडेंशियल भी उसके हाथ लग सकते हैं। और आपको अपने कार्ड का पासवर्ड समय-समय पर चेंज करते रहना चाहिए और ऐसे ऑनलाइन फ्रॉड की संभावना बहुत कम हो जाती है और किसी भी स्टोर में अपने कार्ड को स्वैप करनी और पासवर्ड डालने के पश्चात ट्रांजैक्शन की प्रोसेसिंग कंप्लीट हो जाने के बाद में रसीद लेना ना भूलें।

दोस्तों बिना किसी चौकीदार बाद एटीएम मशीन या ऐसी पेटीएम जो सुनसान जगह पर स्थित हो उन स्थानों पर कार्ड का इस्तेमाल ना करें लेकर कार्ड का क्लोन बनाने के लिए ऐसी ही पेटीएम मशीनों का सबसे अधिक इस्तेमाल करते हैं अगर आप इन सभी सावधानियां को भर देंगे तो आपको कैशलेस ट्रांजैक्शन में किसी भी तरह की परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा आप लंबे समय तक उसका फायदा उठा सकते हैं।

8 Comments

Post a Comment
Previous Post Next Post